खाने को लेकर कैंटीन ठेकेदार व टीटीई में विवाद, सामान फेंका तो पुलिस थाने पहुचा ठेकेदार

- Advertisement -

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।
रेलवे स्टेशन पर टीईटी रेस्ट हाउस में गुरुवार रात कैंटीन संचालक व टीटीई में जमकर विवाद हो गया। खाने की क्वॉलिटी व इसकी मात्रा कम होने पर टीटीई भड़क गए। मामला बढ़ा तो कैंटीन संचालक जीआरपी थाने पहुंचा। मौके पर पश्चिम रेलवे कर्मचारी परिषद व सीटीआई स्लीपर पहुंचे तो मामला शांत हुआ। ठेकेदार का कहना है कि नशे में टीटीई ने विवाद कर किचन में सामान फेक दिए।
विवाद रात करीब 11 बजे हुआ। पश्चिम एक्सप्रेस से मुंबई स्टाफ टीटीई केतन शर्मा साथी कर्मचारियों के साथ स्टेशन उतरा। स्टेशन स्थित रेस्ट हाउस पर ठहरने के बाद जब खाने का ऑर्डर दिया तो खाने की क्वॉलिटी व कम मात्रा को लेकर संचालक से विवाद हो गया। मामला गरमाया तो कैंटीन संचालक देवेंद्र शर्मा जीआरपी थाने जा पहुंचा।
इधर, इसकी सूचना पर पश्चिम रेलवे कर्मचारी परिषद महामंत्री व जेडआरयूसीसी सदस्य शिवलहरी शर्मा व सीटीआई स्लीपर कैलाश शर्मा को मिली तो वे मौके पर पहुंचे। शिवलहरी शर्मा ने आपत्ति ली कि यदि मामले में पुलिस कार्रवाई हुई तो वे भी सभी टीटीई को बुलाकर प्रदर्शन करेंगे। समझाइश के बाद मामला शांत हुआ।
हर टीटीई को मिलते है कूपन
रेलवे की सब्सिटाइज मिल योजना के तहत टीटीई रेस्ट रूम का भी ठेका दिया गया है। दूसरे स्टेशनों से ड्यूटी कर आने वाले टीटीई के लिए ठहरने पर उन्हें खाना, चाय व नास्ता के इंतजाम रहते है। ठेकेदार को रेलवे से प्रतिकर्मचारी 49 रुपए दिए जाते है। जबकि हेडटीसी ऑफिस से हर टीटीई को 5 रुपए के हर दिन 4 कूपन दिए जाते है। इसमें कर्मचारी का पीएफ नंबर, ट्रेन नंबर व संबंधित टीटीई का नाम दर्ज रहता है।
मीनू के मुताबिक खाना नही देने का आरोप
रेस्ट हाउस पर ठहरने वाले टीटीई का आरोप है कि ठेकेदार उन्हें मीनू के मुताबिक खाना नही दे रहा है। खाने की मात्रा भी कम रहती है। यही वजह है कि आए दिन विवाद की स्थिति निर्मित होने लगी है।
आए दिन टीटीई करते विवाद
मामले मे ठेकेदार का कहना है कि ये टीटीई आए दिन नशे की हालत में विवाद करते है। चावल बनाने में देरी होने पर भड़क गए। जमकर गाली गलौच की। कुर्सी सहित समान फेक दिए। अपने बचाव के लिए उसे जीआरपी थाने जाना पड़ा।

- Advertisement -

इनका ये कहना
मामले की सूचना मिली है। खाना बनाने में देरी की वजह से टीटीई ने विवाद किया है। बड़ा मामला नही है। ऐसी नोकझोंक आए दिन होती है।
अमित कुमार साहनी, मंडल वाणिज्य प्रबंधन रतलाम

- Advertisement -

Related articles

ऐसी लापरवाही : पूरे वर्ष काम नहीं किया, बैठक से भी नदारत सचिव हो गया सस्पेंड

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।रतलाम जिला पंचायत सीईओ जमुना भिड़े ने जनपद पंचायत सैलाना की ग्राम पंचायत कुआझागर के सचिव...

सेवा का सम्मान : महेंद्र गादिया जैन विभूति की उपाधि से सम्मानित, जैन सोशल ग्रुप इंटरनेशनल फेडरेशन ने दिया सम्मान

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।जैन सोशल ग्रुप इंटरनेशनल फेडरेशन द्वारा सकल जैन श्री संघ, जैन हेल्पलाइन व सोशल ग्रुप रतलाम...

मुख्यमंत्री का माना आभार : पूर्व महापौर शैलेंद्र डागा ने नजूल एनओसी की अनिवार्यता समाप्त करने के निर्णय का किया स्वागत, विभाजित प्लाट मामले...

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।नए साल से बिल्डिंग परमिशन के लिए लगने वाली नजूल एनओसी की अनिवार्यता को समाप्त करने...

चौथी बार सड़क पर उतरे कलेक्टर : भाजपा नेता की भी नहीं चली, रेलवे की सीमा पर अतिक्रमण नहीं हटाने के लिए आगे आए...

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।रतलाम शहर में ट्रैफिक सुधार को लेकर अतिक्रमण मुहिम लगातार जारी है। सोमवार को अतिक्रमण मुहिम...
error: Content is protected by VandeMatram News