रेलवे की ‘दोस्ती’ रामभरोसे, चाय-नाश्ते के लिए भटक रहे कर्मचारी

रेलवे की ‘दोस्ती’ रामभरोसे, चाय-नाश्ते के लिए भटक रहे कर्मचारी

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।
रेलवे कर्मचारियों के लिए सालों से डीआरएम ऑफिस में ‘दोस्ती’ नाम से संचालित खानपान केंटीन अब बदहाल स्थिति में है। यहां कार्यरत कर्मचारियॉ को अफसरों ने कार्यालयों में अटैच कर दिया। नाश्ता व खाने जैसी सुविधाएं लगभग बंद करवा दी गई। हालात यह है कि ऑफिस का काम छोड़कर रेलवे कर्मचारी दो बत्ती सहित आसपास की होटलों में नाश्ता व खाने के लिए जाने को मजबूर है।
बता दें कि स्थानीय कर्मचारियों के अलावा कई मंडल के अलग अलग स्टेशनों से कर्मचारी प्रशासनिक कार्य के चलते मंडल कार्यालय आते है। उनकी सुविधा के लिए भी केंटीन में खाने व नाश्ते की व्यवस्था शुरू की गई थी।
एक ही कर्मचारी के जिम्मे व्यवस्था
मंडल कार्यालय की केंटीन में करीब 6 कर्मचारियों का कैडर है। अलग-अलग जिम्मेदारी से केंटीन का काम चलाया जा रहा था। अब केवल एक ही कर्मचारी के जिम्मे केंटीन की व्यवस्था है। यहां खाना व नाश्ता पूरी तरह बंद कर दिया गया। वेस्टर्न रेलवे मजदूर संघ के प्रवक्ता गौरव दुबे का कहना है कि केंटिन में कर्मचारी रिफ्रेशमेंट के लिए आते है। यहां कर्मचारियों को दूसरी जगह अटैच कर देने से खानपान सामग्री बनाना बंद कर दी। मजबूरन बाहर से आने वाले कर्मचारियों को बाजार की दुकानों पर जाना पड़ रहा है।
रेलवे कर्मचारियों की ही नियुक्तियां
केंटीन संचालन के लिए रेलवे के ही कर्मचारियों को नियुक्त किया जाता है। डीजल शेड, डीआरएम ऑफिस में प्रशासन द्वारा इस संबंध में इंतजाम किए जाते है। हालांकि डीजल शेड में केंटीन संचालन के चुनाव करवाए जाते है।

Admin

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.