आखिर किस विभाग के अधिकारियो से कलेक्टर बोले मानवीय संवेदना रखों, पुत्र से परेशान पिता भी न्याय की आस में पहुंचे

आखिर किस विभाग के अधिकारियो से कलेक्टर बोले मानवीय संवेदना रखों, पुत्र से परेशान पिता भी न्याय की आस में पहुंचे

रतलाम, वन्देमातरम् न्यूज।
जिला स्तरीय जनसुनवाई मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में संपन्न हुई। कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने आवेदकों की समस्याएं, शिकायतें सुनते हुए निराकरण के निर्देश संबंधित विभागों को जारी किए।

जनसुनवाई में जावरा की अर्चना शर्मा द्वारा आवेदन दिया गया कि उनके पति प्रकाशचंद शर्मा ग्राम ऊपरवाडा के शा. हाईस्कूल में शिक्षक थे। उनकी मृत्यु कोरोना से विगत अप्रैल में हुई लेकिन आज तक उनके परिजनों को पति के आर्थिक स्वत्व का भुगतान नहीं किया गया। इससे परिवार की आर्थिक हालत खराब हो गई, मानसिक रूप से भी परेशान है पेंशन भी नहीं मिल रही है। आवेदिका श्रीमती शर्मा की परेशानी सुनकर कलेक्टर शिक्षा विभाग के अधिकारियों के विरुद्ध सख्त नाराज हुए। सहायक संचालक को बुलाकर कहा कि मानवता का भाव रखना चाहिए। दिवंगत शिक्षक के जितने भी क्लेम है वे परिवार को दिलाने के लिए कार्रवाई करो और मुझे सूचित करो।
कल्पना पति बंटी ने आवेदन में बताया कि प्रार्थिया पहाडिया रोंड जावरा पर सपरिवार पट्टे के भवन में निवास करती है तथा कुछ ही दूरी पर शासकीय चिकित्सालय बना हुआ है। जब भी प्रार्थिया उक्त पट्टे की भूमि पर अपना भवन निर्माण करने की कोशिश करती है तो अस्पताल के कर्मचारियों द्वारा अभद्रता करते हुए मकान निर्माण नहीं करने दिया जाता है। बारिश के मौसम में भी उक्त पट्टा भवन का कुछ हिस्सा गिर चुका था जिससे रहने में काफी परेशानियों का सामना करना पड रहा है। अतः नगर परिषद् जावरा से मकान बनाने की अनुमति दिलवाई जाए। प्रकरण निराकरण हेतु संबंधित अधिकारी को भेजा गया है।
पुत्र जान से मारने की देता है धमकी
सुतारों का वास निवासी सागरमल ने जनसुनवाई में बताया कि प्रार्थी तथा पत्नी का स्वास्थ्य खराब रहता है तथा बडा पुत्र आए दिन हमारे साथ मारपीट करते हुए जान से मारने की धमकी देता है। पुत्र द्वारा पूर्व में घर में रखे हुए 25 हजार रुपए चोरी कर लिए थे और हमारी देखरेख भी नहीं की जाती है, प्रताडित किया जाता है। प्रकरण की सुनवाई करते हुए कलेक्टर ने एसडीएम शहर को निर्देशित किया कि सीएसपी के माध्यम से प्रकरण का शीघ्र निराकरण करवाया जाए।
असामाजिक लोगों का रहता है जमघट
काटजू नगर निवासी डा. मोहन परमार ने जनसुनवाई के दौरान आवेदन में बताया कि नगर निगम विकास शाखा की योजना क्रमांक 44 काटजू नगर पर भवन क्रमांक 148 के सामने की शासकीय भूमि पर कुछ कतिपय लोगो द्वारा अतिक्रमण कर लिया गया है तथा उक्त भूमि पर आए दिन असामाजिक लोगों का जमघट लगा रहता है जिससे समीप में रहने वाले लोगो को मानसिक रुप से क्षति पहुंच रही है। उक्त लोगो से कुछ कहा जाता है तो वे मारपीट पर उतारू हो जाते हैं। शीघ्र न्याय किया जाए। प्रकरण निराकरण हेतु संबंधित विभाग को भेजा गया है।
यह रहे मौजूद
इस दौरान अपर कलेक्टर एमएल आर्य, सीईओ जिला पंचायत जमुना भिड़े, एसडीएम अभिषेक गहलोत, डिप्टी कलेक्टर मनीषा वास्कले तथा कृतिका भीमावद ने भी जनसुनवाई की। निगमायुक्त सोमनाथ झारिया सहित जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

Admin

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.