डॉग रेस्क्यू : कलेक्टोरेट की छत पर दो दिन से पाईप में फंसा था श्वान का बच्चा, निगम टीम ने सीमेंट का पिल्लर तोड़ बचाया

डॉग रेस्क्यू : कलेक्टोरेट की छत पर दो दिन से पाईप में फंसा था श्वान का बच्चा, निगम टीम ने सीमेंट का पिल्लर तोड़ बचाया

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।
रतलाम नगम निगम टीम ने अपनी तत्परता का परिचय देते हुए रविवार सुबह 8 बजे मिली सूचना पर तुरंत एक्शन लेते हुए एक श्वान के बच्चे को रतलाम कलेक्टर कार्यालय की छत पर से रेस्क्यू किया। इसके लिए निगम कर्मचारियों को सीमेंट कांक्रीट के पिल्लर को तोड़ना पड़ा, जिसमे श्वान का बच्चा फंसा हुआ था। जिसे सुरक्षित बाहर निकालना चुनोती के समान था।

रतलाम के एनिमल लवर ग्रुप की अपरा खंडेलवाल ने बताया कि कलेक्टर कार्यालय की छत पर एक मादा श्वान ने कुछ दिनों पहले बच्चों को जन्म दिया था। जन्म देने के बाद मादा श्वान की मृत्यु हो गई जिसके बाद उसके बच्चे अनाथ हो गए। जिनकी देखरेख कलेक्टर कार्यालय में कार्यरत महिला कर्मचारी अर्चना भटनागर कर रही है। अर्चना ने दो दिन से गायब एक बच्चे को सुबह जब ढूँढने की कोशिश की तो मालूम हुआ की वह किसी तरह से छत के पाइप में जा पहुंचा और फंस गया। पाइप भी सीमेंट का पिल्लर से पैक था। जिसकी सूचना श्वानों और अन्य प्राणियों की देखरेख में लगे रहने वाले एनिमल लवर ग्रुप को दी। जिसके बाद ग्रुप के सदस्यों ने निगम इंजीनियर सुरेशचंद्र व्यास तथा जोन निरीक्षक एपी सिंह को दी। जिसके बाद तुरंत अधिकारियों ने फायर ब्रिगेड की टीम को मौके पर पहुंचाया और 2 घंटे की मशक्कत के बाद श्वान के बच्चे को कांक्रीट को तोड़ पिल्लर से सुरक्षित बाहर निकाला। मौके पर नगर निगम की टीम के साथ ग्रुप के सदस्य शिल्पा जोशी, रजनी प्रजापति, अर्चना भटनागर, देवेन्द्र, देवेश गोहिल, अंशुल सोलंकी आदि उपस्थित थे।

Admin

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.