रंगदारी : रेलवे सीटीसीसी कार्यालय के बाबू के साथ मारपीट, प्रकरण दर्ज कराने के लिए रेल एसपी को लगाना पड़ा फोन

- Advertisement -

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।
रतलाम रेलमंडल के मुख्यालय जंक्शन पर एक बार फिर गुंडों-बदमाशों की रंगदारी सामने आई। रनिंग विभाग के पेटी कांट्रेक्टर के गुंडों ने दूसरों को काम मिलने पर मुख्यकर्षणकर्मी दल नियंत्रक ( सीटीसीसी) कार्यालय बाबू के साथ मारपीट की। पूर्व की तरह इस बार भी गुंडे-बदमाशों पर कार्रवाई के बजाए जीआरपी आरोपियों को बचाने में जुटी रही। अंतत: घटना के 4 घंटे बाद रेल एसपी तक मामला पहुंचने पर आरोपियों के खिलाफ मारपीट का प्रकरण दर्ज हुआ। बता दें कि रतलाम रेल मंडल मुख्यालय होने के बावजूद गुंडे-बदमाश रेलवे सीमा में अवैध धंधा करते हैं और उन्हें किसी अधिकारी-कर्मचारी द्वारा मनाही करने पर वह विवाद कर जान से मारने की धमकी देने से बाज नहीं आते।
सीटीसीसी कार्यालय के बाबू मनोज कुमार पिता बंशीलाल तायड़े ने बताया कि वह रविवार रात को प्लेटफॉर्म नंबर-7 पर थे। इस दौरान उनके पास ट्रेनों में पेटी चढ़ाने के कॉन्ट्रेक्टर नरेंद्र तिवारी पहुंचे और दोनों दस्तावेज संबंधित चर्चा कर रहे थे। इस दौरान मौके पर आरोपी पेटी कॉन्ट्रेक्टर जफर, परवेज एवं शोएब पहुंचे और उन्होंने कार्यालय अधीक्षक तायड़े के साथ विवाद कर मारपीट शुरू कर दी। तीनों आरोपियों ने कार्यालय अधीक्षक सहित नए कॉन्ट्रेक्टर तिवारी को धमकाया कि देखते हैं तुम यहां कैसे काम करोगे। सूत्रों के अनुसार रतलाम रेल मंडल मुख्यालय जंक्शन पर ट्रेनों में पेटी उतारने और चढ़ाने का नियमानुसार ठेका तो होता है लेकिन ठेकेदारों को स्थानीय बदमाश जफर, परवेज एवं शोएब डरा-धमका कर उससे काम छिन लेते हैं। बीती रात भी नए ठेकेदार नरेंद्र तिवारी को डराने धमकाने के साथ कार्यालय अधीक्षक तायड़े से मारपीट कर उन्हें जान से मारने की धमकी दी। गुंडे-बदमाशों के खिलाफ कार्यालय अधीक्षक जब जीआरपी थाने पर कार्रवाई करने पहुंचे तो यहां पर पुलिसकर्मी आरोपियों को संरक्षण देने के साथ उन्हें टालमटोल जवाब देते नजर आए। सुनवाई नहीं होने पर कार्यालय अधीक्षक तायड़े ने रेल एसपी को फोन लगाने के बाद थाना स्तर पर तीनों आरोपियों जफर, परवेज एवं शोएब के खिलाफ विभिन्न धाराओं में प्रकरण दर्ज हुआ। जीआरपी थाना प्रभारी जेएल अहिरवार से मुद्दे पर चर्चा के लिए संपर्क किया, लेकिन फोन रिसीव नहीं किया।
तीन माह पहले बदला कॉन्ट्रेक्टर
वहीं र्वतमान कॉन्ट्रेक्टर नरेंद्र तिवारी का कहना था कि तीन माह पहले भोपाल की केवीएस सिक्यूरिटी एजेंसी का कॉन्ट्रेक्ट मिला है। लेबर की व्यवस्था नहीं होने पर पुराने कॉन्ट्रेक्टर जफर के लेबर से ही काम लिया जा रहा था। हमारे पास लेबर की व्यवस्था होने पर कर्मचारियों को लेकर स्टेशन गए थे। विभाग के बाबू मनोज तायड़े को दस्तावेज संबंधी जानकारी देने के दौरान विवाद कर मारपीट कर धमकाया गया।

- Advertisement -

फोटो – जीआरपी थाने के बाहर खड़े फरियादी मनोज तायड़े व ठेकेदार नरेंद्र तिवारी।

- Advertisement -

Related articles

हस्तशिल्प मेले में एक से बढ़कर एक कारीगरी : भोपाल से आए कलाकार की अनूठी कला, कलात्मक हस्तशिल्प सामग्री बनी आकर्षण

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।मृगनयनी, संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम लिमिटेड, मध्यप्रदेश शासन द्वारा रोटरी हॉल अजंता...

वर्चस्व की लड़ाई में सजा : बहुप्रतिक्षित फैसले में भदौरिया ग्रुप के आरोपियों को 7 वर्ष तो अंबर ग्रुप के आरोपियों को 6 वर्ष...

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।एक दशक पूर्व रतलाम के जूनियर इंस्टीट्यूट के सामने शिखा बार में दो पक्षों के बीच...

खुशखबर : ग्राम सुराणा में 49 लाख की लागत से बन रहा उपस्वास्थ केंद्र, ग्रामीण विधायक मकवाना ने सामुदायिक भवन के लिए की 7...

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।जिले के ग्राम सुराणा में 49 लाख रुपए की लागत से निर्मित होने वाले उप स्वास्थ्य...

पर्यावरण को नुकसान : स्थानक निर्माण के लिए पेड़-पौधे किए नष्ट, मामले में एडवोकेट पांचाल ने की उच्चस्तरीय शिकायत

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज। मेसर्स शुभम कंस्ट्रक्शन की मंगलम सिटी में नवकार जैन श्वैताम्बर श्री संघ न्यास द्वारा सर्विस एरिया...
error: Content is protected by VandeMatram News