चेहरे पर आई खुशी : जरूरतमंदों की सेवा के लिए आगे आए दानदाता, ठेला चालकों को बना दिया मालिक

चेहरे पर आई खुशी : जरूरतमंदों की सेवा के लिए आगे आए दानदाता, ठेला चालकों को बना दिया मालिक

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।
रतलाम स्थापना उत्सव समिति ने रतलाम स्थापना दिवस, बसन्त पंचमी को सेवा कार्य के रूप में मनाया। मेहनतकश हम्माल भाइयों को जो किराए की ठेला गाड़ी से अपना कार्य करते थे, उन्हें ठेलागाड़ी वितरित कर आतिशबाजी के साथ मुँह मीठा कराया।
श्री कुशाभाऊ ठाकरे के जन्म शताब्दी वर्ष में पहले 40 ठेला गाड़ी वितरित की गई और आज 40 और ठेला गाड़ी दी गई।कार्यक्रम के मुख्य अथिति कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम, विशेष अथिति एसपी अभिषेक तिवारी थे। कार्यक्रम की शुरुआत कलेक्टर, एसपी व समिति संयोजक पूर्व गृह मंत्री हिम्मत कोठारी ने माँ कालिका की पूजा अर्चना कर की।
तत्पश्चात ठेला गाड़ी वितरण में सहयोग देने वाले दानदाता, इप्का के फाउंडेशन विक्रम कोठारी, महेंद्र गदिया, सुभाष मंडवारिया, राजेश मूणत, विनोद मूणत, सुरेश गोरेचा, चंदन पिरोदिया, सुदर्शन पिरोदिया, सुदर्शन सियार परिवार के सुनील कोठारी का सम्मान हिम्मत कोठारी ने पुष्पमाला पहना कर किया। कार्यक्रम से प्रेरणा लेकर रतलाम प्रॉपर्टी एसोसिएशन ने 5, सुशीला यार्दे की स्मृति में यार्दे परिवार की और से 6, अरिहंत नवयुवक मंडल और विकास मित्र मंडल ने 3-3 ठेलागाड़ी का सहयोग देने की घोषणा की ।
नर सेवा नारायण सेवा
रतलाम स्थापना उत्सव समिति के संयोजक हिम्मत कोठारी ने कहा कि जब हमने यह देखा की मेहनतकश हम्माल भाइयों को गाड़ी के लिए किराए के प्रतिदिन 20 रुपए देने पड़ते है, तब यह ख्याल आया कि क्यों न इन्हें इनकी खुद की गाड़ी मिले। तब कई लोग सहयोग के लिए आगे बढ़कर आए और पहले 40 और अब 40 गाड़ी हम भेंट कर पा रहे है। एसपी तिवारी ने कहा कि समाज तब ही बदलेगा जब असंतोष, अभाव व असमानता का दौर खत्म होगा सभी को एक समान भावना से सोचना होगा। कलेक्टर पुरुषोत्तम ने कहा कि रतलाम नगर के स्थापना गौरव को भी राज्य सरकार द्वारा भी प्रत्येक नगर के स्थापना दिवस मनाए जाने का निर्णय लिया। जरूरतमंदों को हाथगाडी देने से बेहतर कार्यक्रम स्थापना दिवस पर नहीं हो सकता। शास्त्रों में भी लिखा है कि नर सेवा ही नारायण सेवा है। कलयुग में दरिद्र को ही नारायण कहा गया। मालवा की विशेषता दान देने की रही है, रतलाम में कोरोना महामारी काल में भी लोगों ने मदद की। रतलाम शहर की सांस्कृतिक परंपरा को जीवित रखते हुए संकट में कोई गरीब है तो सक्षम लोग मदद के लिए तत्काल आते हैं। कार्यक्रम के अंत मे 40 हम्माल भाइयों को अतिथिगण ने माला पहनाकर, मुंह मीठा करवाकर ठेला गाड़ी प्रदान की।

यह रहे मौजूद

कार्यक्रम में अशोक चौटाला, बजरंग पुरोहित, भाजपा जिला महामंत्री प्रदीप उपाध्याय, रेड क्रॉस सोसाइटी के पूर्व चैयरमेन महेंद्र गदिया, ललित कोठारी, सुरेश गोरेचा, गोपाल सोलंकी, बलविन्दर सोढ़ी, राजेन्द्र राठौर, श्रेणिक जैन, सुरेंद्र जोशी, झमक भरगट, विकास कोठारी, तोलिराम शर्मा, मधु शिरोडकर, प्रभु नेका, मनीष शर्मा, जयेश राठौर आदि उपस्थित रहे। संचालन अरुण चोरड़िया ने किया एवं आभार यतेन्द्र भारद्वाज ने माना।

Admin

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.