राजनीति ऐसी भी: समाजजनों की बैठक नेे सियासी खेमें में बढ़ाई हलचल, भाजपा तय नहीं कर पाई महापौर प्रत्याशी

राजनीति ऐसी भी: समाजजनों की बैठक नेे सियासी खेमें में बढ़ाई हलचल, भाजपा तय नहीं कर पाई महापौर प्रत्याशी

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।
नगरीय निकाय चुनाव में रतलाम भाजपा महापौर प्रत्याशी के नाम पर संघ, संगठन और पार्टीस्तर पर बिछी बिसात पर शह और मात का खेल शुरू से सभी को चौंका रहा है। राजनीतिक सूत्रों के अनुसार रतलाम से शुरू हुई दौड़ में भाजपा के प्रबल प्रत्याशियों में एक दिग्गज दौड़ से लगभग बाहर हो चुके है और शेष नामों में अब सिर्फ दो नाम पर तवज्जों दी जा रही है। रतलाम महापौर प्रत्याशी को लेकर जिला भारतीय जनता पार्टी द्वारा राजधानी पहुंचाई पैनल से पूर्व वंदेमातरम् न्यूज संकेत जारी कर चुका था कि जिन दिग्गजों के नाम प्रबल बताए जा रहे हैं उन्हें कहीं मुहं की न खानी पड़ जाए! इधर नए सिरे से अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति की दावेदारी को मजबूत बनाने के लिए समाजजनों की बैठक ने सियासी खेमे में हलचल मचा दी है।
भाजपा शुरुआत से अंतिम पंंक्ति के अंतिम व्यक्ति को रतलाम में भाजपा महापौर का चेहरा बनाने में जुटी है। अंदरुनी बिसात पर यह पैतरा शुरू से चल रहा है। पूर्व नगर निगम अध्यक्ष अशोक पोरवाल का नाम तय बताने के साथ बधाईयों का दौर शुरू हो गया था। अधिकारिक घोषणा से पहले राजनीति दाव में बाजी ऐसी पलटी की सोमवार से पटरी पार चेहरे को सोशल मीडिया के घोषणावीरों ने मुहर लगा दी थी। मंंगलवार दोपहर 2 बजे प्रदेश की कुल 16 नगरीय निकायों में 13 उम्मीद्वारों के नाम उजागर होने के बाद नए सिरे से बैठाए जा रहे समीकरणों में रतलाम महापौर प्रत्याशी के लिए दो उम्मीद्वारों में कशमकश का दौर शुरू हो गया। इधर नए सिरे से पार्टी स्तर पर मंथन के बीच रतलाम में सोमवार शाम 4 बजे पार्टी के अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति की दावेदारी में समाजजनों की बैठक ने सियासी खेमे में हलचल मचा दी।  अंतिम शेष दो उम्मीद्वार प्रवीण सोनी और प्रहलाद राठौड़ में महापौर प्रत्याशी का साफा किसे बंधेगा? यह सवाल राजनीतिक गलियारों से लेकर आम चौराहों पर बना हुआ है।
पिछली बार भी चौंकाया था भाजपा ने
केंद्र से लेकर प्रदेश और प्रदेश से लेकर नगरीय निकाय तक भाजपा अपने चुनावी दावेदारों की घोषणा करने के साथ सभी को चौंकाती रही है। सूत्रों के अनुसार भाजपा हर बार की तरह इस बार भी कोई ऐसा चेहरा जनता के सामने लाने में परहेज नहीं करेगी। पिछली बार भी भाजपा से अनीता कटारिया का नाम लगभग तय हो चुका था और ऐनवक्त पर डॉ. सुनीता यार्दे का चेहरा सभी के सामने लाकर पार्टी ने चौंकाया था। इस बार भी उच्चस्तर पर एक नए चेहरे को लाने के लिए मंथन का दौर अंतिम चरण में है।
रुपए के दम पर दांव
पटरी पार के एक दावेदार का भाजपा में कोई पुराना इतिहास नहीं है। केवल एक बार के पार्षद होने के बाद सीधे महापौर प्रत्याशी के लिए दावा कर दिया। बताया जाता है कि इस दावेदार द्वारा भाजपा को लोभलुभावन प्रलोभन भी देने की बात भी सामने आ रही है। उच्च स्तर पर जमीन से लेकर रुपए देने तक की बात पार्टी के समक्ष इस दावेदार द्वारा की जा चुकी है। पुराने दिग्गजों की मानें तो महापौर के लिए ऐसा व्यक्ति होना चाहिए तो जो कि सीधे जनता से जुड़ा हो और जमीनी हो। ऐसा एक भी गुण पटरी पार के दावेदार प्रत्याशी में नहीं है। कुछ दिन पहले एक समाज से जुड़े प्रतिनिधि मंडल ने पटरी पार दावेदार के खिलाफ एसपी कार्यालय से लेकर अजाक पुलिस थाने में शिकायत तक कर चुका है। 

Admin

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.