34.6 C
Ratlām
Saturday, June 22, 2024

रतलाम के डॉक्टर लालच के शिकार : सस्ते फ्लैट खरीदने की जालसाजी में आए डॉक्टर, 60 लाख से अधिक राशि हड़प चुका इंदौर का ठग

रतलाम के डॉक्टर लालच के शिकार : सस्ते फ्लैट खरीदने की जालसाजी में आए डॉक्टर, 60 लाख से अधिक राशि हड़प चुका इंदौर का ठग

– इंदौर का ठग तत्कालीन सीएमएचओ डॉ. ननावरे की पार्टी में शामिल होकर खुद को बताया था रिश्तेदार  

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज। इंदौर में सस्ते फ्लैट खरीदने के लालच में रतलाम के मलेरिया अधिकारी डॉ. प्रमोद प्रजापति सहित उसके अन्य साथी इंदौर के एक ठग के जाल में ऐसे फंसे की लाखों रुपए खो चुके। फिलहाल मलेरिया अधिकारी डॉ. प्रजापति ने रतलाम के स्टेशन रोड थाने पर इंदौर के ठग के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज करवाया है। पुलिस जांच में अब तक सामने आया है कि इंदौर के ठग ने रतलाम में मलेरिया अधिकारी डॉ. प्रजापति सहित उसके कई अन्य साथी डॉक्टर को जाल में फंसाकर 60 लाख रुपए हड़प चुका है। खास बात यह है कि इंदौर का यह ठग कुछ माह पहले तत्कालीन सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर ननावरे की एक पार्टी में शामिल हुआ था। पार्टी में इंदौर के ठग ने खुद को तत्कालीन सीएमएचओ डॉ. ननावरे का रिश्तेदार बताया था। 

रतलाम के स्टेशन रोड थाना अनुसार जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. प्रमोद पिता रामखीलावन प्रजापति निवासी रतलाम व डॉ. गौरव बोरिवाल, सुनील पांचाल, डॉ. सीपी जोशी, धर्मेंद्र चौहान, विवेक जैन, तरुण कसेरा, विनय पासवान आदि लोगों ने थाना स्टेशन रोड पर शिकायत की थी। जांच के बाद डॉ. प्रजापति की रिपोर्ट पर धोखाधड़ी करने के मामले में आरोपी अविनाश राव मूल निवासी रतलाम जावरा फाटक एवं हाल मुकाम अखंड नगर-इंदौर के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 406 में प्रकरण दर्ज किया। ठगी का शिकार हुए डॉ. प्रजापति ने पुलिस को बताया कि आरोपी अविनाश राव से पहली मुलाकात रतलाम के तत्कालीन मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. नानावरे के घर में एक कार्यक्रम के दौरान हुई थी। आरोपी अविनाश राव ने अपना परिचय तत्कालीन सीएमएचओ डॉ. नानावरे के रिश्तेदार बताकर दिया। कहा कि मैं नगरी प्रशासन का भी काम देखता हूं। आपको यदि नगरी प्रशासन के किसी भी तरह का काम हो तो मुझे बताइएगा। उसने यह भी कहा की नगरी प्रशासन के जो आवासीय फ्लैट होते हैं वह हमारे ठेकेदारों और कंस्ट्रक्शन कंपनी के होते हैं जिसमें कुछ फ्लैट्स हमे अलग से बेचने के लिए मिलते हैं और उन्हें हम सस्ते दाम पर बेचते हैं। आरोपी के बिछाए जाल में सस्ते फ्लैट के लालच ने डॉ. प्रजापति को फंसाया। आरोपी राव ने कुछ एडवांस डिपॉजिट करने की बात कहते पूरी प्रोसेस समझाई। यहां तक नगरी प्रशासन द्वारा पत्र जारी कर दस्तावेज सत्यापन के लिए बुलाया जाकर रजिस्ट्री कर चॉबी देने की बात तक कही। इस पूरी प्रक्रिया में रुपए जमा करने, कितने रुपए देने हैं कब-कब देने हैं यह बताने को कहा।

50 हजार रुपए भेजे ऑनलाइन

डॉ. प्रजापति को आरोपी राव ने बताया कि नगरी प्रशासन में कुछ डीडी या वहां जाकर फ्लैट के फॉर्म भरने पड़ते हैं। यह प्रक्रिया ऑनलाइन के माध्यम से होती है। उसने बोला कि यह नगरी प्रशासन में तो मिलेगा लेकिन कुछ फ्लैट्स जो कंस्ट्रक्शन कंपनी के ठेकेदार के माध्यम से हमको बेचने के लिए मिलते हैं उसकी पूरी कार्रवाई हमारे माध्यम से ही होती है। अविनाश राव ने फ्लैट की डिटेल संबंधी विज्ञापन डॉ. प्रजापति के वाट्सएप पर शेयर किया था। जिसमें ईडब्ल्यूएस, एलआईजी, एमआईजी की क्षेत्रफल वार जानकारी थी। अविनाश के कहे जाने पर डॉ. प्रजापति ने फ्लैट लेने का मन बनाया और इंदौर में 2BHK फ्लैट बुक करने के लिए राजी हो गए। आरोपी राव को 16 अक्टूबर 2023 को उसके Gpay नंबर 9131129906 पर 50 हजार  रुपए ऑनलाइन भेजे। सूत्रों के अनुसार अन्य अतरिक्त राशि डॉ. प्रजापति ने आरोपी को नगदी दी है।

ऐसे जकड़ा शातिर ने अपने जाल में

डॉ. प्रजापति ने कुछ दिन बाद अपने दोस्तों सुनील पांचाल, डॉ. सीपी जोशी, डॉ. गौरव बोरीवाल, विनय पासवान को फ्लैट वाली बात बताई। दोस्त सुनील पांचाल और डॉ. सीपी जोशी साथ में फ्लैट देखने और जानकारी लेने इंदौर भी गए। तब आरोपी अविनाश राव ने व्यस्त होने की बात कहकर मिलने से मना कर दिया। बाद में डॉ. प्रजापति ने आरोपी अविनाश राव को अपने दोस्तों के साथ इंदौर व रतलाम में फ्लैट देखने की बात बताई। तो आरोपी अविनाश राव ने डॉ. प्रजापति के दोस्तों को भी झांसे में लिया। दोस्तों ने अविनाश से पूछा कि आप यह फ्लैट कैसे दिलाते हैं। तब अविनाश ने कहा कि आवास योजना के तहत जो मकान बनाए जाते हैं जो गुजरात की कंपनी बनाती है। उसके ठेकेदार से डायरेक्ट मेरा कांटेक्ट है और जिनमें से कुछ फ्लैट की सेलिंग हम डायरेक्ट करते हैं। इसलिए हमारे पास से कम रेट में फ्लैट उपलब्ध करा देते हैं। उसके द्वारा 2 बीएचके और 3 बीएचके अफोर्डेबल फ्लैट दिलाने की बात बार-बार डॉ. प्रजापति व उनके दोस्तों को कहता रहा।

60 लाख रुपए ठग चुका आरोपी

इंदौर में सस्ते फ्लैट दिलाने के प्रलोभन पर रतलाम के डॉ. प्रजापति समेत कुछ अन्य के साथ धोखाधड़ी हुई है। ठगी का शिकार हुए अलग-अलग समय कुल 60 लाख रुपए आरोपी को दे चुके है। इन्हें ना तो फ्लैट मिला और नहीं राशि। आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपी को जल्द गिरफ्तार कर लेंगे। – दिनेश भोजक, टीआई- रतलाम स्टेशन रोड थाना (मध्य प्रदेश)

Aseem Raj Pandey
Aseem Raj Pandeyhttp://www.vandematramnews.com
वर्ष-2000 से निरतंर पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय। विगत 22 वर्षों में चौथा संसार, साभार दर्शन, दैनिक भास्कर, नईदुनिया (जागरण) सहित अन्य समाचार-पत्रों और पत्रिकाओं में विभिन्न दायित्वों का निर्वहन किया। पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय रहते हुए वर्तमान में समाचार पोर्टल वंदेमातरम् न्यूज के प्रधान संपादक की भूमिका का निर्वहन। वर्ष-2009 में मध्यप्रदेश सरकार से जिलास्तरीय अधिमान्यता प्राप्त पत्रकार के अलावा रतलाम प्रेस क्लब के सक्रिय सदस्य। UID : 8570-8956-6417 Contact : +91-8109473937 E-mail : asim_kimi@yahoo.com
Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Copyright Content by VM Media Network