हड़ताल का दूसरा दिन : शौक नहीं मजबूरी है यह हड़ताल जरूरी है, संयुक्त समिति ने की जमकर नारेबाजी

हड़ताल का दूसरा दिन : शौक नहीं मजबूरी है यह हड़ताल जरूरी है, संयुक्त समिति ने की जमकर नारेबाजी

रतलाम, वन्देमातरम् न्यूज।
श्रम संगठनों की संयुक्त समिति की राष्ट्रव्यापी हड़ताल के दूसरे दिन मंगलवार को रतलाम प्रेस क्लब भवन पर प्रदर्शन हुआ। हड़ताल में विभिन्न संगठनों की ओर से शौक नहीं मजबूरी है यह हड़ताल जरूरी है जैसे नारे लगाए गए। नारेबाजी पश्चात श्रम संगठनों की संयुक्त समिति ने विभिन्न मांगों का ज्ञापन प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन को सौंपा।
सभा को श्रम संगठनों की संयुक्त समिति अध्यक्ष कामरेड अश्विनी शर्मा ने संबोधित किया। कामरेड शर्मा ने कहा कि वर्तमान केंद्र सरकार निरंतर कारपोरेट को फायदा पहुंचाने के लिए श्रम कानूनों में बदलाव कर रही है। निरंतर ठेका मजदूरी को बढ़ावा देकर नियमित रोजगार कम करने का कार्य कर रही है । दवा व चिकित्सा उपकरणों पर 0% जीएसटी होना चाहिए। सरकार निरंतर जनविरोधी निर्णय लेकर देश में असमंजस का वातावरण निर्मित कर रही है।
सभा में इन्होंने भी बुलंद की आवाज
सभा को आंगनवाड़ी कार्यकर्ता यूनियन की कामरेड तृप्ति शर्मा, आशा उषा यूनियन की कामरेड संगीता , एलआईसी के कपिल देवड़ा , पोस्टल यूनियन के एनके गिरी , इंटक के महेंद्र गोयल,एमआर यूनियन के अविनाश पोरवाल, बैंक एंप्लाइज यूनियन के नरेंद्र पुरोहित, आयकर महासंघ के शांतिलाल शर्मा आदि ने संबोधित कर विरोध दर्ज कराया।
हड़ताल में एकजुटता का भी लिया संकल्प
दो दिनी हड़ताल के अंतिम दिन सभी साथियों ने संकल्प लिया कि देश में एकजुटता बनी रहे। इस दौरान कामरेड एचएन जोशी, राजेश तिवारी, अरविंद सोनी, गीतादेवी राठौर, मीनाक्षी गौर, कृष्णा सोनगरा , प्रियेश शर्मा, एलआर मीणा, आईएल पुरोहित, दिनेश ऊंटवाल, एमआर यूनियन के पुलकित जोशी ,कमलेश देशमुख , स्नेहिल मोघे, किशोर चौहान, ,रशीद खान , शुभम जैन, दीपक गुप्ता, संजय व्यास, गोपाल चौहान, वरुण सोलंकी आदि मौजूद थे ।

Admin

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.