128 करोड़ रुपए के सीवरेज प्रोजेक्ट का सीएम कल करेंगे ई-लोकार्पण

128 करोड़ रुपए के सीवरेज प्रोजेक्ट का सीएम कल करेंगे ई-लोकार्पण

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।
अमृत योजना अंतर्गत 128 करोड़ रुपए के सीवरेज प्रोजेक्ट की सुविधा रतलामवासियों को जल्द मिलने जा रही है। 22 सितंबर की दोपहर 12 बजे सीएम शिवराजसिंह चौहान योजना अंतर्गत निर्मित करमदी मार्ग और खेतलपुर एसटीपी (सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट) का ई-लोकार्पण करेंगे। हालांकि अभी तक 50 फीसद हाऊस कनेक्शन हो चुके हैं, शेष कार्य जल्द पूरा करने की कवायद जारी है।
नगर निगम आयुक्त सोमनाथ झारिया ने बताया कि 128.78 करोड़ की लागत से सीवरेज योजना का कार्य जमीनी स्तर पर लगभग पूरा हो चुका है। वर्ष-2047 तक की जनसंख्या को ध्यान में रखते हुए तैयार किए प्रोजेक्ट में 276.36 किलोमीटर का सीवरेज नेटवर्क तैयार किया है। 5 हजार 26 मेनहोल चैंबर बनाने के अलावा 11 हजार 155 हाऊस चैंबर बनाए गए हैं। शहर में कुल 43 हजार 273 भवनों के मान से अभी तक कंस्ट्रक्शन कंपनी जयवरुणी इंफ्राकॉन प्राइवेट लिमिटेड की ओर से 20 हजार 283 हाउस कनेक्शन जोड़ दिए हैं। शेष 50 फीसद कार्य आगामी 1 माह में पूरा करने के लिए संबंधित एजेंसी को निर्देशित किया।
कहां कितनी क्षमता के ट्रीटमेंट प्लांट
सीवरेज प्रोजेक्ट अंतर्गत खेतलुपर ट्रीटमेंट प्लांट 16 एमएलडी (मिलियन लीटर पर डे) का बनाया गया है, जबकि दूसरा करमदी रोड स्थित ट्रीटमेंट प्लांट 21.5 एमएलडी (मिलियन लीटर पर डे) क्षमता का बनाया गया है। दोनों ट्रीटमेंट प्लांट का विधिवत 22 सितंबर को शुरू होने के बाद योजना से शहर की खुली नाली एवं नालों में आने वाले सीवेज से मुक्ति मिलेगी साथ ही भूमिगत जल को भी प्रदूषित होने से बचाया जा सकेगा। नगर निगम के मुताबिक इस योजना से रतलाम की करीब 3 लाख जनसंख्या लाभान्वित होगी।
3 स्तर के अंशदान से हुआ काम
केंद्र सरकार कीअमृत योजना में रतलाम में सीवरेज प्रोजेक्ट की शुरुआत वर्ष-2016 में टेंडर प्रक्रिया पूरी कर की गई थी। सीवरेज प्रोजेक्ट में केंद्र की ओर से 50 फीसद राशि एवं 40 फीसद राशि राज्य सरकार से दी गई थी। इसके अलावा नगर निगम ने प्रोजेक्ट में 10 प्रतिशत राशि जुटाई थी। सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का संचालन और संधारण आगामी 10 वर्ष के लिए जय वरुणी इंफ्राकॉन प्राइवेट लिमिटेड अमहदाबाद (गुजरात) द्वारा किया जाएगा।

Admin

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.