जावरा विधायक के प्रश्न पर पंचायत मंत्री ने कहा – विधानसभा क्षेत्र में बीते 3 वर्षों में लगभग 69 करोड़ से अधिक लागत से 2371 कार्यों की स्वीकृति दी गई

जावरा विधायक के प्रश्न पर पंचायत मंत्री ने कहा – विधानसभा क्षेत्र में बीते 3 वर्षों में लगभग 69 करोड़ से अधिक लागत से 2371 कार्यों की स्वीकृति दी गई

जावरा, वंदेमातरम् न्यूज।
ग्रामीण विकास के लिए जावरा विधानसभा क्षेत्र में बीते 3 वर्षों में लगभग 69 करोड़ से अधिक की राशि की लागत से 2371 कार्यों की स्वीकृति दी गई। इसमें सबसे अधिक कार्य नंदन फलोद्यान योजना के तहत स्वीकृत किए गए।
उक्त जानकारी प्रदेश के पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने जावरा विधायक डॉ राजेंद्र पांडेय के प्रश्न पर देते हुए बताया कि जावरा विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत जावरा व पिपलोदा विकासखंड में मनरेगा योजना के अंतर्गत 1876 कार्यों की स्वीकृति दी गई। लगभग 52 करोड़ 68 लाख की लागत से स्वीकृत इन कार्यों में 21 खेल मैदान, 38 सुदूर ग्राम सड़क, 12 गौशाला निर्माण, निजी खेतों में फलोद्यान 1154, निर्मल नीर 174 तथा खेत तालाब योजना के तहत 473 कार्यों की स्वीकृति दी गई। इसके अलावा जल स्तर में सुधार लाने और ग्रामीण क्षेत्रों में जल संवर्धन हेतु लगभग 16 करोड़ 64 लाख रु की लागत से 495 कार्यों की स्वीकृति दी गई। इन कार्यों में नवीन सामुदायिक तालाब, चेक डैम व कंटूर ट्रेंच के कार्यों को सम्मिलित किया गया है। मनरेगा के स्वीकृत कार्यों में 333 कार्य पूर्ण भी हो चुके हैं। विधायक डॉ पांडेय के एक अन्य प्रश्न पर औद्योगिक नीति व निवेश प्रोत्साहन मंत्री राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव ने बताया कि जावरा शुगर मिल परिसर में बहु उत्पाद औद्योगिक क्षेत्र विकास हेतु अधोसंरचना विकसित किए जाने की कार्यवाही की जा रही है। जिसकी विस्तृत कार्य योजना लगभग 39 करोड़ 60 लाख की लागत से बनाई जाकर स्वीकृति दी गई है। इस औद्योगिक परिसर में सड़कों का निर्माण, पुलिया, स्टॉर्म वॉटर ड्रेनेज, स्ट्रीट लाइट, उच्च दाब व निम्न दाब की विद्युत लाइन व ट्रांसफार्मर, पेयजल पाइप लाइन, आरसीसी ओवरहेड टैंक व संपवेल का निर्माण किया जाएगा। इन कार्यों के टेंडर भी जारी किए जा चुके हैं ।आपने बताया कि जावरा का बहु उत्पाद औद्योगिक क्षेत्र बहुत जल्दी आकार लेगा। इस औद्योगिक हब का लाभ जावरा व आसपास के क्षेत्रों को मिलेगा।

Admin

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.