भूमाफियाओं की जादूगरी : जयंतसेन धाम निर्माण में 21,500 स्क्वेयर फीट जमीन देकर रसूखदारों ने तोड़े सभी नियम और अवैध कॉलोनी का बनाया प्रवेश मार्ग

भूमाफियाओं की जादूगरी : जयंतसेन धाम निर्माण में 21,500 स्क्वेयर फीट जमीन देकर रसूखदारों ने तोड़े सभी नियम और अवैध कॉलोनी का बनाया प्रवेश मार्ग

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।
सागोद रोड स्थित जैन समाज के प्रसिद्ध तीर्थ जयंतसेन धाम के निर्माण में 21 हजार 500 स्क्वेयर फीट जमीन देकर रसूखदार भूमाफियाओं ने 100 बीघा सिंचिंत कृषि भूमि पर अवैध कॉटेजनुमा कॉलोनी का प्रवेश मार्ग बनाकर शातिराना खेल खेला। भूमि सर्वे 34/24/1 और 32/24/2 पर जयंतसेन धाम का निर्माण हुआ है। कुल एक बीघा जमीन पाश्र्वनाथ डेवलपर्स के भागीदार पवन पिता पारसमल पिरोदिया, मंयक पिता मणिलाल गोटा, राजेश पिता मोतीलाल चौहान सहित किरण पति कमल पिरोदिया और महेंद्र पिता बसंतीलाल पिरोदिया के नाम दस्तावेज में दर्ज है। शहरवासियों में चर्चा है कि शातिर भूमाफियाओं ने आस्था के केंद्र जयंतसेन धाम की आड़ में सभी नियमों को दरकिनार कर औने-पौने दाम पर खरीदी सिंचिंत कृषि भूमि पर अवैध कॉटेजनुमा कॉलोनी निर्माण कर प्रशासन की आंखों में धूल झोंक दी।
जयंतसेन धाम के पीछे अवैध कॉटेजनुमा कॉलोनी में अनुमति बगैर 3.5 किलोमीटर लंबी सीमेंट कांक्रीट सड़क के अलावा विद्युत पोल लगाकर नियमों के विपरित भूखंड विक्रय कर लोगों को जाल में फंसाया। इतना ही नहीं ग्राहकों को फंसाने के लिए उक्त क्षेत्र में नियम विपरित आलिशान कॉटेज निर्माण कर जमीन के भाव बढ़ाने का खेल भी खेला। एक तरफ जिला एवं नगर निगम प्रशासन ने अभी तक 17 अवैध कॉलोनाइजरों के खिलाफ धोखाधड़ी सहित अन्य गंभीर धाराओं में प्रकरण दर्ज कराया, वहीं दूसरी तरफ सागोद रोड स्थित रसूखदार भूमाफियाओं ने देवालय की आड़ से रचे पूरे षडय़ंत्र करने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होना आमजन में कई सवाल खड़े करने लगा। बता दें कि जिला प्रशासन की कॉलोनी सेल की ओर से नोटिस के प्रतिउत्तर में रसूखदार भूमाफिया कोई ठोस प्रमाण प्रस्तुत नहीं कर सके। प्रशासनिक सूत्रों की मानें तो कॉलोनी सेल की अंतिम दौर में चल रही जांच के बाद जल्द ही जयंतसेन धाम के पीछे अवैध निर्मित कॉटेजनुमा कॉलोनी की सीमेंट कांक्रीट सड़क उखाडऩे के अलावा नियम विपरित बनाए आलीशान कॉटेज तोड़े जाएंगे।

फोटो – जयंतसेन धाम के पीछे अवैध कोटेजनुमा कॉलोनी में इस तरह बनाए गए आलिशान बंगलों का निर्माण।

Admin

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.