ये आराम का मामला है : इधर श्रम विभाग में कुर्सियां तोड़ रहे अधिकारी व कर्मचारी, उधर काम करने को मजबूर मासूम हाथ

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।
जिले में बाल श्रमिक यानी मजदूरी करते बच्चे हम और आप आसानी से रोज देख रहे है, मगर इसके लिए जिम्मेदार विभाग केवल कुर्सियां तोड़ रहा है। जी हां! हम बात कर रहे है रतलाम जिले के श्रम विभाग की। जहां पूरा साल गुजर जाने के बाद बाल श्रम पर कार्रवाई के नाम पर केवल खानापूर्ति है। रतलाम में कई परिवार ऐसे हैं जो अपनी जरूरतों के चलते बच्चों का भविष्य अंधकारमय बनाने में लगे है।

जिलेभर में मोटर गैरेज, होटलों, किराना दुकानों, रेस्टोरेंट, प्लास्टिक बीनने, उद्योगों आदि में बाल श्रम करते बच्चे आसानी से देखे जा सकते है। लेकिन ऐसे में जिम्मेदार मुंह फेर कर शिकायतकर्ता का इंतजार करते है। वहीं लंबे समय में कोई प्रभावी कार्रवाई नहीं होना सांठगांठ की और भी इशारा करता है। सूत्रों की माने तो जिम्मेदार कार्रवाई की आड़ में वसूली का खेल कर जाते है। वसूली की जिम्मेदारी विभाग के एक छोटे कद के बाबू की है। जो सारा हिसाब किताब का खेल देखता है। वहीं उज्जैन बैठे बड़े बाबू विभाग में महीनों तक झांकने नहीं आते।

कोरोना काल के बाद से श्रम विभाग में जिला श्रम अधिकारी का पद खाली पड़ा है। यहां कमान लेबर इंस्पेक्टर निशा गणावा संभाल रही है। लेबर इंस्पेक्टर निशा गणावा से जब सालभर के निरीक्षण पर प्रश्न पूछा गया तो उन्होंने अनुमानित 20 निरीक्षण करना बताया। मगर उन निरीक्षण की कब और कहां की जानकारी वे नहीं दे पाई। उनका कहना है कि शिकायत आती है तो कार्रवाई करते है। लेकिन 2022 में एक भी प्रकरण बाल श्रम के अंतर्गत नहीं बनाया गया। इस विभाग के जिम्मेदार कभी कुर्सियां छोड़कर फील्ड में नजर नहीं आए।

नियम जिनका जिले में नहीं हो रहा पालन
कानून और नियमों के मुताबिक ऐसे बच्चे जिनकी उम्र 14 वर्ष से कम है। उन बच्चो से किसी भी तरह का श्रम नहीं करवाया जा सकता है। यह बाल श्रम अपराध की श्रेणी में आता हैं। वहीं जो बच्चे जिनकी उम्र 14 से 18 वर्ष के बीच है, उनसे भी जोखिम भरा या भारी काम नही लिया जा सकता है। ऐसा करते पाए जाने पर बाल श्रम अधिनियम 2016 की धारा 3 एवं 3A के अनुसार दुकान संचालक पर 20 से 50 हजार का जुर्माना व 6 माह से 2 वर्ष तक कारावास का प्रावधान है। निरन्तरित कार्य पर पर रखने पर धारा 14(2) के अंतर्गत एक से 3 वर्ष का कारावास का प्रावधान है।

Author

  • Jaydeep Gurjar

    वर्ष 2018 से पत्रकारिता के क्षेत्र में निरंतर सक्रिय। कार्य क्षेत्र शुरुआत से ही डिजिटल माध्यम रहा। 2018 में इंडियामिक्स वेब पोर्टल से शुरुआत की। 2020-21 दैनिक चैतन्यलोक समाचार पत्र में इंटर्न के रूप में लिखना शुरू किया। कुछ वक्त तक न्यूज़18 नेटवर्क की डिजिटल कमान भी संभाली। वर्तमान में वंदेमातरम् न्यूज के साथ पत्रकारिता का सफर निरंतर जारी है। Contact :+91-8770021160

Jaydeep Gurjar
Jaydeep Gurjarhttp://www.vandematramnews.com
वर्ष 2018 से पत्रकारिता के क्षेत्र में निरंतर सक्रिय। कार्य क्षेत्र शुरुआत से ही डिजिटल माध्यम रहा। 2018 में इंडियामिक्स वेब पोर्टल से शुरुआत की। 2020-21 दैनिक चैतन्यलोक समाचार पत्र में इंटर्न के रूप में लिखना शुरू किया। कुछ वक्त तक न्यूज़18 नेटवर्क की डिजिटल कमान भी संभाली। वर्तमान में वंदेमातरम् न्यूज के साथ पत्रकारिता का सफर निरंतर जारी है। Contact :+91-8770021160

Related articles

दो माह बाद भी पिता मौत के कारणों से अंजान : मजिस्ट्रियल जांच पूरी, परिजन काट रहे अफसरों के चक्कर

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।दो माह पूर्व छात्रावास की दो छात्राओं की मौत की भले ही मजिस्ट्रियल जांच पूरी हो...

यह अंदर की बात है! “नट्टू काका” की जादूगरी से सुर्खियों में नगर सरकार, ऐसी भी वर्दी कुछ नहीं तो 50-50 रुपए से चला...

असीम राज पांडेय, केके शर्मा, जयदीप गुर्जररतलाम। नई नवेली नगर सरकार में इन दिनों "नट्टू काका" खासे सुर्खियों...

खूनी संघर्ष में युवक की हत्या: सोशल मीडिया पर कमेंट्स बना विवाद का कारण,  मृतक के शव का आज होगा पोस्टमार्टम

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।जिला मुख्यालय के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र शिवगढ़ में सोशल मीडिया पर कमेंट्स को लेकर दो पक्षों...

स्पेशल चैकिंग अभियान : बगैर टिकट रेल यात्रा अब पड़ेगी महंगी, पहले दिन रेलवे ने 197 यात्रियों से वसूले 70 हजार से अधिक

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।रतलाम रेल मंडल के वाणिज्‍य विभाग की स्पेशल चैकिंग से बगैर टिकट यात्रा कर रहे यात्रियों...
error: Content is protected by VandeMatram News