30.2 C
Ratlām
Monday, July 22, 2024

हस्तशिल्प मेले का कल अंतिम दिन : अभी तक आपने नहीं देखा है तो यह मौका मत चूकिएं, यहां मिलेगी हर वर्ग, आयु की उपयोगी सामग्री

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।
संत रविदास मप्र हस्तशिल्प एवं हाथकरघा विकास निगम ने नगर की शिल्प को जानने-समझने-परखने का सामर्थ्य रखने वाले जानकारों के सामने प्रदेश के सबसे अच्छे शिल्पकार और उनकी कला का प्रदर्शन और विक्रय रोटरी क्लब हॉल अजंता टॉकीज रोड में करने का अवसर उपलब्ध कराया। एक साथ, एक ही समय में, एक स्थान पर शरीर, स्वास्थ्य, सौंदर्य, परिधान, सजावट, श्रृंगार की कलात्मक सामग्री का ऐसा खजाना उपलब्ध कराया जो बाजार में देखना तो ठीक सुनने को भी नहीं मिलता है। पिछले दिनों जिस मेले में यह सब देखा और खरीदा उसका कल रविवार को अंतिम दिन है।

IMG 20221203 WA0509

मेला आयोजक दिलीप सोनी ने बताया कि प्रदेश के शिल्पी सरकार से पुरस्कार और सम्मान पाते हैं। कारण केवल इतना होता है कि उनके उत्पाद घर की सुख, शांति और समृद्धि बढाते हैं। रोटरी क्लब हॉल अजंता टॉकीज रोड में यह सभी सामग्री बेमिसाल तौर पर आम लोगों तक पहुंची है। युवतियों, महिलाओं के श्रृंगार के लिए सिर से लेकर नख तक मिलने वाली सामग्री बाजार में भी है, लेकिन वहां के उत्पाद हस्तशिल्प के सामने नहीं टिकते हैं। हस्तशिल्प मेले में जो साड़ियां आई है वे अनूठी है। यानि बाजार में यह साड़ियां नहीं मिलती है। जूते बाजार में भी मिलते हैं, लेकिन उसमे लेदर लगा या रेग्जिन यह पहचानने का जिम्मा ग्राहक का होता है, लेकिन मप्र शासन के इस मेले में इस प्रकार की कई सामग्री है जिसे पहचाने के लिए ग्राहक को ज्यादा मशक्कत करने की जरूरत नहीं होती है। यही कारण है कि हस्तशिल्प मेले के उत्पाद किसी भी स्तर तक जाकर अपनी गुणवत्ता बनाए रखते हैं और विश्वास के लायक होते हैं।

एक ही स्थान पर कई सामग्री
बेडशीट, मलबरी सिल्क, सलील कॉटन, महेश्वरी साडी, बाग की साडियां, सूट,  रेडिमेट कुर्ते, खंडवा का सिल्क कॉटन, प्रिंटेड सूट, मंदसौर की मीनाकारी, इंदौर का सिरमिक आर्ट, ग्वालियर की सिक्का ज्वैलरी, दुधि के लकडी के खिलौने, ग्वालियर का ग्लास वर्क, चूडियां, उज्जैन की लाख ज्वैलरी, मांडना, खजूर शिल्प, देवास का लेदर बेग्स जैसे कई आयटम कहीं बाजार में नहीं मिलते हैं। शिल्पकारी को जानने वालों की अच्छी बात यह है कि मेले में पहुंचकर शिल्पकार को प्रोत्साहित किया है।

हर सामग्री की अपनी विशेषता
हर सामग्री की अपनी अनूठी विशेषता है जो सौंदर्य के साथ स्वास्थ्य से जुडी है। कला परम्परागत होने के बाद भी आधुनिक परिवेश में उसको ढाला गया है। तकनीक और कम्प्यूटर के युग में उन सभी बातों का ख्याल रखा गया है जो किसी भी आवश्यकता की पूर्ति करने के साथ ही कलाप्रेमी की पसंद की पूर्ति करती है। मेले में आने वाले शिल्पकार ज्यादातर सरकार के मापदंड पर खरे उतरने वाले होते हैं और उनके उत्पाद मेले में आने वाले लोगों की निगाहों में खरे होते हैं। हस्तशिल्प मेला उद्यमिता और कला के प्रति रूचि रखने वाले लोगों के लिए भी एक सीखने-सिखाने और दिखाने का स्थान रहा है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए कॉलेज के विद्यार्थियों ने कला की जानकारी ली और मेले के उत्पादों को अपने घर में स्थान दिया। मेला 4 दिसम्बर को अंतिम रहेगा। सुबह 11 से रात्रि 9 बजे आम लोगों के लिए खुला है।

KK Sharma
KK Sharmahttp://www.vandematramnews.com
वर्ष - 2005 से निरंतर पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय। विगत 17 वर्ष में सहारा समय, अग्निबाण, सिंघम टाइम्स, नवभारत, राज एक्सप्रेस, दैनिक भास्कर, नईदुनिया (जागरण) सहित अन्य समाचार पत्र और पत्रिकाओं में विभिन्न दायित्वों का निर्वहन किया। पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय रहते हुए वर्तमान में समाचार पोर्टल वंदेमातरम् न्यूज में संपादक की भूमिका का दायित्व। वर्तमान में रतलाम प्रेस क्लब में कार्यकारिणी सदस्य। Contact : +91-98270 82998 Email : kkant7382@gmail.com
Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Copyright Content by VM Media Network