शून्य सीरीज की स्पेशल के बजाय जल्दी ही पुराने नंबरों से चलेगी ट्रेने, पहले की तरह होगा सफर

शून्य सीरीज की स्पेशल के बजाय जल्दी ही पुराने नंबरों से चलेगी ट्रेने, पहले की तरह होगा सफर

रतलाम वंदेमातरम् न्यूज।
रेलवे अब शून्य सीरीज के नंबरों के बजाय पुराने नियमित नंबरों से ट्रेनों का परिचालन शुरू करेगा। 
रेल मंत्रालय से जारी निर्देश के बाद रतलाम मंडल में भी इसका मैसेज भेजा गया है। सॉफ्टवेयर में बदलाव के बाद अगले कुछ दिनों में इसे लागू कर दिया जाएगा।
परिचालन विभाग के अधिकारी के मुताबिक रेल मंत्रालय के फैसला के बाद मेल/एक्सप्रेस, स्पेशल और हॉलिडे स्पेशल ट्रेनों की सेवा अब रेगुलर ट्रेनों जैसी ही होगी। कोविड-19 को देखते हुए रेगुलर मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों को स्पेशल ट्रेनों के तौर पर चलााया जा रहा था। अब इन ट्रेनों का फिर से सामान्य परिचालन बहाल होगा।
कोविड की वजह से पटरी पर दौड़ रही स्पेशल ट्रेन अब एक बार फिर पहले की तरह ही चलाई जाएगी। स्पेशल ट्रेन का चार्ज यात्रियों को अलग से नहीं देना होगा। सामान्य किराया लागू होगा। यह नियम सभी मेल, एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेन में लागू होगा। हालांकि आरक्षित टिकट के लिए सॉफ्टवेयर में बदलाव करने में कुछ वक्त लग सकता है।
सभी ट्रेनों से स्पेशल की पहचान हटेगी
देशभर में चलने वाली ट्रेन कोरोना संक्रमण से पहले की यथास्थिति में वापस लौट रही है। सभी ट्रेनों से स्पेशल की पहचान हटेगी। लेकिन कोविड प्रोटोकॉल को जारी रखा जाएगा। इस वजह से अनारक्षित कोच में टिकट की बुकिंग करा कर ही यात्रा करने की अनुमति होगी। इसी तरह आरक्षित कोच में उन्हें ही यात्रा की अनुमति दी जाएगी जिनका टिकट कन्फर्म होगा। वेटिंग टिकट से भी यात्रा की अनुमति नहीं होगी। कोविड प्रोटोकॉल की वजह से फिलहाल यात्रा के दौरान ट्रेन में कैटरिंग की व्यवस्था नहीं शुरू की जाएगी। चादर व कंबल भी यात्रियों को रेलवे की तरफ से नहीं दिया जाएगा।
यात्रियों से पैसे चार्ज नही, न होगा रिफंड  
अधिकारी के मुताबिक पहले से ही बुक किए गए टिकट पर न तो रेलवे किसी तरह के पैसे चार्ज करेगा। किसी तरह का रिफंड भी दिया जाएगा सीआरआईएस से इस संबंध में जरूरी बदलाव करने को कहा गया है। 

स्पेशल के परिचालन में बदलाव संबंधी आदेश आने पर करवाई की जाएगी। यह आदेश रेल मंत्रालय से आना है।
खेमराज मीणा, जनसंपर्क अधिकारी

Admin

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.