कार्रवाई : ट्रांसपोर्ट नगर की प्रस्तावित जमीन से हटाया अतिक्रमण, कई सालों से कर रखा था अवैध कब्जा,

कार्रवाई : ट्रांसपोर्ट नगर की प्रस्तावित जमीन से हटाया अतिक्रमण, कई सालों से कर रखा था अवैध कब्जा,

रतलाम, वंदेमातरम् न्यूज।
रतलाम शहर का ट्रांसपोर्ट नगर बसाने की तैयारी प्रशासन की शुरू हो चुकी है। ट्रांसपोर्ट नगर के लिए सालाखेड़ी में जमीन प्रस्तावित है। प्रस्तावित जमीन पर सालों से कई लोगों ने अवैध कब्जा कर घर व दुकाने बना रखी है। अवैध कब्जे को हटाने की कार्रवाई प्रशासन ने सोमवार को की।

मालूम हो कि सालाखेड़ी ग्राम पंचायत में ट्रांसपोर्ट नगर बसाया जाएगा। करीब 18 हेक्टेयर जमीन पर ट्रांसपोर्ट नगर तैयार होना है। जमीन के एक से डेढ़ बीघा में कई लोगों ने पिछले काफी समय से अवैध रूप से कब्जा कर रखा था। कई लोगों ने घर बना कर दुकान बना ली। सोमवार को नायब तहसीलदार कुलभूषण शर्मा, राजस्व निरीक्षक शुभम तिवारी, पटवारी शैलेंद्र व्यास, मुकेश मरमट, गिरीश शर्मा, विजय मकवाना, अनुप्रिया गुप्ता, सारिका वर्मा सालाखेड़ी पुलिस चौकी के दल बल के साथ मौके पर पहुंचे। निर्मित अवैध कब्जे को जेसीबी की मदद से हटाया। करीब 8 दुकान सहित तीन घर जो कि कच्चे बने हुए थे उन्हें हटा दिया। इसके अलावा पास में ही खारा खेड़ी ग्राम पंचायत के अंतर्गत फोरलेन रोड से लगे एक ढाबे पर भी जेसीबी चलाई गई। ढाबे पर अवैध रूप से शराब बिकने की शिकायत पर यह कार्रवाई की गई।
पहले दिया नोटिस
अधिकारियों के मुताबिक 5 अप्रैल को नोटिस जारी कर 9 अप्रैल तक खाली करने का समय दिया गया था। इसके बाद 2 दिन का समय सीमा बड़ा दिया गया। फिर भी कब्जा किसी ने नहीं हटाया टैब जाकर यह कार्रवाई की गई। अभी और भी कुछ लोग शेष रह गए जिन्हें नोटिस जारी कर 10 से 15 दिन का समय दिया गया है। अधिकारियों के मुताबिक कुछ लोगों के वह राशन कार्ड भी बने हुए थे। जिन्हें आबादी क्षेत्र में शिफ्ट किया जाएगा। अतिक्रमण हटाने के दौरान भीम आर्मी संघठन के मोहन परिहार भी पहुंचे। उन्होंने आपत्ति ली। तब मौके पर मौजूद अधिकारियों ने बताया कि जिनके राशन कार्ड है उन्हें अन्यत्र स्थापित किया जाएगा।
ग्राम पंचायत की लापरवाही
अवैध कब्जे बिना ग्राम पंचायत की मिलीभगत से सम्भव नहीं है। कई लोगों को काफी समय से कब्जा जमाकर घर दुकान निर्मित करना ग्राम पंचायत की लापरवाही को दर्शाता है। अगर समय समय पर ग्राम पंचायत द्वारा कार्रवाई की जाती तो इतना अधिक अतिक्रमण नहीं होता।

Admin

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.